शंकर दा घोटा ला घोटा, कुंडे विच सोटा ला घोटा शिव दे मस्त मलंग जो भग्तो, ऱज के पींदे भंग जो भग्तो, Lyrics Bhajans Bhakti Songs

शंकर दा घोटा – ला घोटा,   कुंडे विच सोटा – ला घोटा, शिव दे मस्त मलंग जो भग्तो, ऱज के पींदे भंग जो भग्तो, Lyrics

shankar da ghota bhajan video and lyrics by Raju Uttam and Karma Ropad Wala

शंकर दा घोटा – ला घोटा,   कुंडे विच सोटा – ला घोटा, शिव दे मस्त मलंग जो भग्तो, ऱज के पींदे भंग जो भग्तो, Lyrics in Hindi

शंकर दा घोटा – ला घोटा,   कुंडे विच सोटा – ला घोटा,
शिव दे मस्त मलंग जो भग्तो, ऱज के पींदे भंग जो भग्तो,
वड्डा की छोटा – ला घोटा,

.  भंग नु रगड़े लाये भगतां,
विच बदाम मिलाये भगतां,
विच फेर के पोटा – ला घोटा,

.  फिर भगतां ने दुध रलाया,
खुल्ला डुल्ला मिट्ठा पाया,
पूरा भर के लोटा – ला घोटा,

.  पी के घोटा चढ़ गयी मस्ती,
भुल गए सारे अपणी हस्ती,
पतला की मोटा – ला घोटा,

.  कैंदा करमा रोपड़ वाला,
चल भग्ता तूं  घोटा ला लै,
मन रहे न खोटा – ला घोटा,

संपर्क : + ,

शंकर दा घोटा – ला घोटा,   कुंडे विच सोटा – ला घोटा, शिव दे मस्त मलंग जो भग्तो, ऱज के पींदे भंग जो भग्तो, Lyrics Transliteration (English)