तत्त्ववित्तु महाबाहो गुणकर्मविभागयोः ।गुणा गुणेषु वर्तन्त इति मत्वा न सज्जते ॥

तत्ववित्तु महाबाहो गुणकर्मविभागयो: |
गुणा गुणेषु वर्तन्त इति मत्वा न सज्जते || 28||

tattva-vit tu mahā-bāho guṇa-karma-vibhāgayoḥ
guṇā guṇeṣhu vartanta iti matvā na sajjate

Audio

https://www.bharattemples.com/wp-content/uploads/bt/2020/09/3-28.MP3.mp3

भावार्थ:

परन्तु हे महाबाहो! गुण विभाग और कर्म विभाग (त्रिगुणात्मक माया के कार्यरूप पाँच महाभूत और मन, बुद्धि, अहंकार तथा पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ, पाँच कर्मेन्द्रियाँ और शब्दादि पाँच विषय- इन सबके समुदाय का नाम ‘गुण विभाग’ है और इनकी परस्पर की चेष्टाओं का नाम ‘कर्म विभाग’ है।) के तत्व (उपर्युक्त ‘गुण विभाग’ और ‘कर्म विभाग’ से आत्मा को पृथक अर्थात्‌ निर्लेप जानना ही इनका तत्व जानना है।) को जानने वाला ज्ञान योगी सम्पूर्ण गुण ही गुणों में बरत रहे हैं, ऐसा समझकर उनमें आसक्त नहीं होता। ॥28॥

Translation

O mighty-armed Arjun, illumined persons distinguish the soul as distinct from guṇas and karmas. They perceive that it is only the guṇas (in the shape of the senses, mind, etc.) that move amongst the guṇas (in the shape of the objects of perception), and thus they do not get entangled in them.

https://www.bharattemples.com/wp-content/uploads/bt/2020/09/3.28.mp3

English Translation Of Sri Shankaracharya’s Sanskrit Commentary By Swami Gambirananda