देवताओं की करून पुकार एवं ब्रह्मा जी द्वारा प्रभु स्तुति Lyrics | Bhajans | Bhakti Songs

देवताओं की करून पुकार एवं ब्रह्मा जी द्वारा प्रभु स्तुति Lyrics

देवताओं की करून पुकार एवं ब्रह्मा जी द्वारा प्रभु स्तुति Lyrics (Hindi)

देवताओं की करून पुकार एवं ब्रह्मा जी द्वारा प्रभु स्तुति :

जय जय सुरनायक जन
सुखदायक प्रनतपाल भगवंता।
गो द्विज हितकारी जय
असुरारी सिंधुसुता प्रिय कंता॥

पालन सुर धरनी अद्भुत
करनी मरम न जानइ कोई।
जो सहज कृपाला दीनदयाला
करउ अनुग्रह सोई॥॥

भावार्थ:-हे देवताओं के स्वामी,
सेवकों को सुख देने वाले,
शरणागत की रक्षा करने वाले भगवान!
आपकी जय हो! जय हो!!

हे गो-ब्राह्मणों का हित करने वाले,
असुरों का विनाश करने वाले,
समुद्र की कन्या (श्री लक्ष्मीजी)
के प्रिय स्वामी! आपकी जय हो!

हे देवता और पृथ्वी का
पालन करने वाले!
आपकी लीला अद्भुत है,
उसका भेद कोई नहीं जानता।

ऐसे जो स्वभाव से ही
कृपालु और दीनदयालु हैं,
वे ही हम पर कृपा करें॥॥
जय जय अबिनासी सब

घट बासी ब्यापक परमानंदा।
अबिगत गोतीतं चरित
पुनीतं मायारहित मुकुंदा॥
जेहि लागि बिरागी अति

अनुरागी बिगत मोह मुनिबृंदा।
निसि बासर ध्यावहिं गुन
गन गावहिं जयति सच्चिदानंदा॥॥
भावार्थ:-हे अविनाशी,

सबके हृदय में निवास
करने वाले (अन्तर्यामी),
सर्वव्यापक, परम आनंदस्वरूप,
अज्ञेय, इन्द्रियों से परे,

पवित्र चरित्र, माया से
रहित मुकुंद (मोक्षदाता)
आपकी जय हो । जय हो॥  
(इस लोक और परलोक

के सब भोगों से)
विरक्त तथा मोह से
सर्वथा छूटे हुए (ज्ञानी)
मुनिवृन्द भी अत्यन्त

अनुरागी (प्रेमी)
बनकर जिनका रात-
दिन ध्यान करते हैं
और जिनके गुणों के

समूह का गान करते हैं,
उन सच्चिदानंद की जय हो॥॥
जेहिं सृष्टि उपाई त्रिबिध
बनाई संग सहाय न दूजा।

सो करउ अघारी चिंत हमारी
जानिअ भगति न पूजा॥
जो भव भय भंजन मुनि मन
रंजन गंजन बिपति बरूथा ।

मन बच क्रम बानी छाड़ि सयानी
सरन सकल सुरजूथा ॥॥
भावार्थ:-जिन्होंने बिना किसी
दूसरे संगी अथवा सहायक के

अकेले ही (या स्वयं अपने को
त्रिगुणरूप- ब्रह्मा, विष्णु, शिवरूप-
बनाकर अथवा बिना किसी
उपादान-कारण के अर्थात्

स्वयं ही सृष्टि का
अभिन्ननिमित्तोपादान कारण बनकर)
तीन प्रकार की सृष्टि उत्पन्न की,
वे पापों का नाश करने वाले

भगवान हमारी सुधि लें।
हम न भक्ति जानते हैं, न पूजा,
जो संसार के (जन्म-मृत्यु के)
भय का नाश करने वाले,

मुनियों के मन को आनंद देने
वाले और विपत्तियों के समूह
को नष्ट करने वाले हैं। हम सब
देवताओं के समूह, मन,

वचन और कर्म से चतुराई करने
की बान छोड़कर उन (भगवान)
की शरण (आए) हैं॥॥
सारद श्रुति सेषा रिषय असेषा

जा कहुँ कोउ नहिं जाना ।
जेहि दीन पिआरे बेद पुकारे
द्रवउ सो श्रीभगवाना ॥
भव बारिधि मंदर सब बिधि

सुंदर गुनमंदिर सुखपुंजा ।
मुनि सिद्ध सकल सुर परम
भयातुर नमत नाथ पद कंजा ॥॥
भावार्थ:-सरस्वती, वेद,

शेषजी और सम्पूर्ण ऋषि
कोई भी जिनको नहीं जानते,
जिन्हें दीन प्रिय हैं,
ऐसा वेद पुकारकर कहते हैं,

वे ही श्री भगवान हम पर दया करें।
हे संसार रूपी समुद्र के (मथने के)
लिए मंदराचल रूप,
सब प्रकार से सुंदर,

गुणों के धाम और सुखों की
राशि नाथ । आपके चरण
कमलों में मुनि, सिद्ध और
सारे देवता भय से अत्यन्त
व्याकुल होकर नमस्कार करते हैं॥॥

संकलन  आभार : उषा पाठक
वाराणसी

देवताओं की करून पुकार एवं ब्रह्मा जी द्वारा प्रभु स्तुति Lyrics Transliteration (English)

devataon kee karun pukaar aur brahma jee dvaara prabhu shututi:

jay jay suranaayak jan
sukhadaayak pranatapaal bhagavanta.
govij hitakaaree jay
asuraaree sindhusoota priy kanta

paalan ​​sur narani adbhut
karanee maram na jaani na.
jo sahaj krpaala deenadayaala
karau krpa soi ..

bhaavaarth: -he bhagavaan ke svaamee,
sevakon ko khushee dene vaale,
sharanaagat kee raksha karane vaale
bhagavaan! teree jay ho! jay ho !!

he go-braahmanon ka hit karane vaale,
asuron ka vinaash karane vaala,
samudr kee kanya (shree lakshmeejee)
ke priy svaamee! teree jay ho!

he devata aur prthvee ka
peechha kar raha hai!
aapakee leela adbhut hai,
usaka antar koee nahin jaanata.

aise jo svabhaav se hee
krpaalu aur deenadayaalu hain,
ve hee ham par krpa karen karen
jay jay ab binasee sab

ghat baasee byaapak paramaanand.
abivat govantan charit
puneetan avaraarit mukund aar
jehigei biraagee ati

anuraagee bigat moh munibranda.
nisi baasar dharithahin gun
gan gaavahin jayati sachchidaanand
in bhaavaarth: -he avinaashee,

sabake dil mein nivaas
karane vaale (antaryaamee),
sarvavyaapak, param aanandasvaroop,
agyey, indriyon se pare,

pavitr charitr, maaya se
rahit mukund (mokshadaata)
aapaka jay ho jay ho.
(yah lok aur onlok

ke sab bhogon se)
shirakat aur moh se
sarvatha vishraame hue (ayaanee)
munivrnd bhee atishay

anuraagee (premee)raat ho
gaee din dhyaan karate hain
aur jinake gun hain samooh
ka gaan karate hain,

un sachchidaanand kee jay ho
kee jehin srshti upaee tribidh
banaee gaee sahaayata sahaayata
na dooja. so karau aghaareent

hamaara jaani bhagati na pooja na
jo bhay bhay bhajan muni man
ranjan gajaan bipati barootha.
man bach kram baanee chhaadi

sayaanee saran sakal surajat tha
bhaavaarth: -jin ne kisee ke bina
kiya hai doosara sangee ya sahaayak
ke akele hee (ya apane aap ko)

trigunaroop- brahma, vishnu, shiv
aur- mekakar ya bina kisee ke
upadaan-kaaran ke arthaat
svayan hee srshti ka

abhinnanimittopaadaan kaaran banakar)
teen prakaar kee srshti utpann kee,
ve paapon ka naash karane vaale hain
bhagavaan hamaaree sudhi len.

ham na bhakti jaanate hain, na pooja,
jo sansaar ke (janm-mrtyu ke)
bhay ka naash karane vaala,
muniyon ke man ko aanand dena

aur vip adhikaariyon ke samooh
karane nasht karane vaale hain; ham
sab bhagavaan ke samooh, man,
vachan aur karm se chaturaee karana

kee baan ko chhodakar (bhagavaan)
kee sharan (aae) hain hain
saarad shruti sesha rishay asesha
ja kahun kou navin jaana.

jehi deen piaare bed pukaare
dravau so shreebangavaana vaana
bhav baaridhi mindar sab bidhi
sundar gunamandir sukhapunj.

muni kram sakal sur param
bhayaatur namat naath pad kanja
mat bhaavaarth: -sarasvatee,
ved, shesh aur sampoorn rshi

koee bhee jeenako nahin jaanata,
jin deenon mein hain,
aisa ved pukaarakar kahate hain,
ve hee shree bhagavaan ham par

daya karen. he sansaar roopee
samudr ke (mathane ke)
mandaraachal roop,
sabhee prakaar se sundar,

gunon ke dhaam aur sukhon
kee raashi naath. aapaka charan
kamalon mein muni, anukram

aur sarv devata bhay se atyant
vyaakul hokar namaskaar karate
hain karate

sankalan aabhaar: usha paathak
vaaraanasee