दुश्मनी की तो क्या पूछिये लिरिक्स

dushmani ki to kya puchiye

दुश्मनी की तो क्या पूछिये लिरिक्स (हिन्दी)

दुश्मनी की तो क्या पूछिये दोस्ती का भरोसा नहीं,
आप मुझ से भी पर्दा करें,
अब किसी का भरोसा नही,

कल ये मेरे भी आँगन में थी,
जिसपे तुमको गुरूरआज है.
कल ये शायद तुझे छोड़ दे,
इस ख़ुशी का भरोसा नही,

मुश्किल कोई आन पड़ी तो घबराने से क्या होगा,
जीने की तरक़ीब निकालो मर जाने से क्या होगा,

क्या ज़रूरी है हर रात में,
चाँद तुमको मिले जानेजाँ,
जुगनुओं से भी निस्बत रखो,
चाँदनी का भरोसा नही,

रात दिन मुस्तकिल कोशिशें,
ज़िन्दगी कैसे बेहतर बने,
इतने दुख ज़िन्दगी के लिये,
और इसी का भरोसा नही,

सच मेरे बारे में था तो कितना अच्छा था,
तेरे बारे में बोला तो कड़वा लगता है,

ये तकल्लुफ भला कब तलक,
मेरे नज़दीक आ जाइये.
कल रहे न रहे क्या पता,
ज़िन्दगी का भरोसा नहीं.

पत्थरों से कहो राज़-ए- दिल,
ये ना देंगे दवा आप को.
ऐ नदीम आज के दौर में,
आदमी का भरोसा नही.

Download PDF (दुश्मनी की तो क्या पूछिये)

दुश्मनी की तो क्या पूछिये

Download PDF: दुश्मनी की तो क्या पूछिये

दुश्मनी की तो क्या पूछिये Lyrics Transliteration (English)

dushmanI kI to kyA pUChiye dostI kA bharosA nahIM,
Apa mujha se bhI pardA kareM,
aba kisI kA bharosA nahI,

kala ye mere bhI A.Ngana meM thI,
jisape tumako gurUraAja hai.
kala ye shAyada tujhe ChoDa़ de,
isa kha़ushI kA bharosA nahI,

mushkila koI Ana paDa़I to ghabarAne se kyA hogA,
jIne kI taraka़Iba nikAlo mara jAne se kyA hogA,

kyA ja़rUrI hai hara rAta meM,
chA.Nda tumako mile jAnejA.N,
juganuoM se bhI nisbata rakho,
chA.NdanI kA bharosA nahI,

rAta dina mustakila koshisheM,
ja़indagI kaise behatara bane,
itane dukha ja़indagI ke liye,
aura isI kA bharosA nahI,

sacha mere bAre meM thA to kitanA achChA thA,
tere bAre meM bolA to kaDa़vA lagatA hai,

ye takallupha bhalA kaba talaka,
mere naja़dIka A jAiye.
kala rahe na rahe kyA patA,
ja़indagI kA bharosA nahIM.

pattharoM se kaho rAja़-e- dila,
ye nA deMge davA Apa ko.
ai nadIma Aja ke daura meM,
AdamI kA bharosA nahI.

दुश्मनी की तो क्या पूछिये Video

दुश्मनी की तो क्या पूछिये Video

Browse Temples in India