न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ लिरिक्स

na mai dham dharti na dhan chahta hoon

न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ लिरिक्स (हिन्दी)

न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ,
कृपा का तेरी एक कण चाहता

रटे नाम तेरा वो चाहूँ मैं रसना,
सुने यश तेरा, वह श्रवण चाहता हूँ

विमल ज्ञान धारा से मस्तिष्क उर्वर
व श्रद्धा से भरपूर मन चाहता हूँ

नहीं चाहना है मुझे स्वर्ग-छबि की,
मैं केवल तुम्हें प्राणधन ! चाहता हूँ

प्रकाश आत्मा में अलौकिक तेरा है,
परम ज्योति प्रत्येक क्षण चाहता हूँ।

– Yogesh Tiwary

Download PDF (न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ)

न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ

Download PDF: न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ

न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ Lyrics Transliteration (English)

na maiM dhAma dharatI na dhana chAhatA hU.N,
kRRipA kA terI eka kaNa chAhatA

raTe nAma terA vo chAhU.N maiM rasanA,
sune yasha terA, vaha shravaNa chAhatA hU.N

vimala j~nAna dhArA se mastiShka urvara
va shraddhA se bharapUra mana chAhatA hU.N

nahIM chAhanA hai mujhe svarga-Chabi kI,
maiM kevala tumheM prANadhana ! chAhatA hU.N

prakAsha AtmA meM alaukika terA hai,
parama jyoti pratyeka kShaNa chAhatA hU.N|

– Yogesh Tiwary

न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ Video

न मैं धाम धरती न धन चाहता हूँ Video

Browse Temples in India