गंगा से गंगाजल भरके काँधे शिव की कावड़ धरके भजन लिरिक्स

Ganga Se Gangajal Bharke

गंगा से गंगाजल भरके काँधे शिव की कावड़ धरके भजन लिरिक्स (हिन्दी)

गंगा से गंगाजल भरके,
काँधे शिव की कावड़ धरके,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो।।

तर्ज नदियाँ चले चले रे धारा।


सावन महीने का पावन नजारा,
अद्भुत अनोखा है भोले का द्वारा,
सावन की जब जब है बरसे बदरिया,
सावन की जब जब है बरसे बदरिया,
झूमे नाचे और बोले कावड़िया,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो।।


रस्ता कठिन है और मुश्किल डगर है,
भोले के भक्तो को ना कोई डर है,
राहों में जितने भी हो कांटे कंकर,
राहों में जितने भी हो कांटे कंकर,
हर एक कंकर में दीखते है शंकर,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो।।


कावड़ तपस्या है भोले प्रभु की,
ग्रंथो ने महिमा बताई कावड़ की,
होंठो पे सुमिरन हो पेरो में छाले,
होंठो पे सुमिरन हो पेरो में छाले,
रोमी तपस्या हम फिर भी कर डाले,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो।।


गंगा से गंगाजल भरके,
काँधे शिव की कावड़ धरके,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो,
भोले के दर चलो लेके कावड़ चलो।।

गायक संजय मित्तल जी।

Download PDF (गंगा से गंगाजल भरके काँधे शिव की कावड़ धरके भजन )

Download the PDF of song ‘Ganga Se Gangajal Bharke ‘.

Download PDF: गंगा से गंगाजल भरके काँधे शिव की कावड़ धरके भजन

Ganga Se Gangajal Bharke Lyrics (English Transliteration)

gaMgA se gaMgAjala bharake,
kA.Ndhe shiva kI kAvaड़ dharake,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo||

tarja nadiyA.N chale chale re dhArA|


sAvana mahIne kA pAvana najArA,
adbhuta anokhA hai bhole kA dvArA,
sAvana kI jaba jaba hai barase badariyA,
sAvana kI jaba jaba hai barase badariyA,
jhUme nAche aura bole kAvaड़iyA,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo||


rastA kaThina hai aura mushkila Dagara hai,
bhole ke bhakto ko nA koI Dara hai,
rAhoM meM jitane bhI ho kAMTe kaMkara,
rAhoM meM jitane bhI ho kAMTe kaMkara,
hara eka kaMkara meM dIkhate hai shaMkara,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo||


kAvaड़ tapasyA hai bhole prabhu kI,
graMtho ne mahimA batAI kAvaड़ kI,
hoMTho pe sumirana ho pero meM ChAle,
hoMTho pe sumirana ho pero meM ChAle,
romI tapasyA hama phira bhI kara DAle,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo||


gaMgA se gaMgAjala bharake,
kA.Ndhe shiva kI kAvaड़ dharake,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo,
bhole ke dara chalo leke kAvaड़ chalo||

gAyaka saMjaya mittala jI|

गंगा से गंगाजल भरके काँधे शिव की कावड़ धरके भजन Video

गंगा से गंगाजल भरके काँधे शिव की कावड़ धरके भजन Video

Browse Temples in India