कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं Lyrics, Video, Bhajan, Bhakti Songs
कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं Lyrics, Video, Bhajan, Bhakti Songs

कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं लिरिक्स

Kan Kan Me Krishna Samaye Hai

कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं लिरिक्स (हिन्दी)

कण कण में कृष्ण समाये है,
भक्तों ने हरि गुण गाए हैं।।


ओंकार में सभी समाया,
बिंदु में सिंधु लहराया,
हरी करुणा सिंधु कहाऐ है,
भक्तों ने हरी गुण गाए हैं,
कण कण में कृष्ण समाए है,
भक्तों ने हरि गुण गाए हैं।।


वीर दुशासन चीर खींचता,
द्रुपद सुता का बल नही चलता,
प्रभु साड़ी बनकर आए हैं,
भक्तों ने हरी गुण गाए हैं,
कण कण में कृष्ण समाए है,
भक्तों ने हरि गुण गाए हैं।।


प्रेम और विश्वास के बल पर,
दर्शन देते व्यापक ईश्वर,
मधुबन में रास रचाए हैं,
भक्तों ने हरी गुण गाए हैं,
कण कण में कृष्ण समाए है,
भक्तों ने हरि गुण गाए हैं।


गज ने पाया गिद्ध ने पाया,
सागर में पत्थर को तिराया,
फिर मानव क्यों घबराए हैं,
भक्तों ने हरी गुण गाए हैं,
कण कण में कृष्ण समाए है,
भक्तों ने हरि गुण गाए हैं।।


कण कण में कृष्ण समाये है,
भक्तों ने हरि गुण गाए हैं।।

स्वर प्रेम नारायण जी गेहूंखेड़ी।
प्रेषक Arjit Malav
6378727387

Download PDF (कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं)

Download the PDF of song ‘Kan Kan Me Krishna Samaye Hai ‘.

See also  कुदरत का करिश्मा है यही बेटी यही माँ है Lyrics, Video, Bhajan, Bhakti Songs

Download PDF: कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं

Kan Kan Me Krishna Samaye Hai Lyrics (English Transliteration)

kaNa kaNa meM kRRiShNa samAye hai,
bhaktoM ne hari guNa gAe haiM||


oMkAra meM sabhI samAyA,
biMdu meM siMdhu laharAyA,
harI karuNA siMdhu kahAai hai,
bhaktoM ne harI guNa gAe haiM,
kaNa kaNa meM kRRiShNa samAe hai,
bhaktoM ne hari guNa gAe haiM||


vIra dushAsana chIra khIMchatA,
drupada sutA kA bala nahI chalatA,
prabhu sADa़I banakara Ae haiM,
bhaktoM ne harI guNa gAe haiM,
kaNa kaNa meM kRRiShNa samAe hai,
bhaktoM ne hari guNa gAe haiM||


prema aura vishvAsa ke bala para,
darshana dete vyApaka Ishvara,
madhubana meM rAsa rachAe haiM,
bhaktoM ne harI guNa gAe haiM,
kaNa kaNa meM kRRiShNa samAe hai,
bhaktoM ne hari guNa gAe haiM|


gaja ne pAyA giddha ne pAyA,
sAgara meM patthara ko tirAyA,
phira mAnava kyoM ghabarAe haiM,
bhaktoM ne harI guNa gAe haiM,
kaNa kaNa meM kRRiShNa samAe hai,
bhaktoM ne hari guNa gAe haiM||


kaNa kaNa meM kRRiShNa samAye hai,
bhaktoM ne hari guNa gAe haiM||

svara prema nArAyaNa jI gehUMkheड़I|
preShaka Arjit Malav
6378727387

कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं Video

कण कण में कृष्ण समाये है भक्तों ने हरि गुण गाए हैं Video

Browse all bhajans by prem narayan ji gehukhedi

Browse Temples in India