मनवा कर भगति में सिर बाण तज कुब्द्ध कमावण लिरिक्स

Manwa Kar Bhakti Me Sir Baan

मनवा कर भगति में सिर बाण तज कुब्द्ध कमावण लिरिक्स (हिन्दी)

मनवा कर भगति में सिर,
बाण तज कुब्द्ध कमावण।

दोहा कण दिया सो पण दिया,
किया भील का भूप,
बलिहारी गुरु आपने,
मेरे चढ़िया सराया रूप।


मनवा कर भगति में सिर,
बाण तज कुब्द्ध कमावण।।


जोगी बन्या गोपीचन्द राजा,
जिन घर बाजे नोपत बाजा,
मा मेंनावत दिया उपदेश,
धार ली अलख जगावण की।।


सीता जनक पूरी में जाई,
ज्याने लग्यो रावण छुड़ाई,
चल्या राम लखन का बाण,
तोड़ लंका रावण की।।


पांचो पांडव द्रौपती नारी,
जिनका चिर दुशासन सारी,
पांडव गलगा हिमालय जाय,
सुन ली कलयुग आबा की।।


ईन गावे काफिया जोड़,
हां ईश्वर से नाता जोड़,
भर्मा का भांडा फोड़,
मानुष देह फेर ना आवन की।।


मनवा साध संगत में चाल,
बाण तज कुब्द्ध कमावन की।।

स्वर स्वामी ओमदास जी महाराज।
प्रेषक सुनील गोठवाल
9057815318

Download PDF (मनवा कर भगति में सिर बाण तज कुब्द्ध कमावण)

Download the PDF of song ‘Manwa Kar Bhakti Me Sir Baan ‘.

Download PDF: मनवा कर भगति में सिर बाण तज कुब्द्ध कमावण

Manwa Kar Bhakti Me Sir Baan Lyrics (English Transliteration)

manavA kara bhagati meM sira,
bANa taja kubddha kamAvaNa|

dohA kaNa diyA so paNa diyA,
kiyA bhIla kA bhUpa,
balihArI guru Apane,
mere chaढ़iyA sarAyA rUpa|


manavA kara bhagati meM sira,
bANa taja kubddha kamAvaNa||


jogI banyA gopIchanda rAjA,
jina ghara bAje nopata bAjA,
mA meMnAvata diyA upadesha,
dhAra lI alakha jagAvaNa kI||


sItA janaka pUrI meM jAI,
jyAne lagyo rAvaNa Chuड़AI,
chalyA rAma lakhana kA bANa,
toड़ laMkA rAvaNa kI||


pAMcho pAMDava draupatI nArI,
jinakA chira dushAsana sArI,
pAMDava galagA himAlaya jAya,
suna lI kalayuga AbA kI||


Ina gAve kAphiyA joड़,
hAM Ishvara se nAtA joड़,
bharmA kA bhAMDA phoड़,
mAnuSha deha phera nA Avana kI||


manavA sAdha saMgata meM chAla,
bANa taja kubddha kamAvana kI||

svara svAmI omadAsa jI mahArAja|
preShaka sunIla goThavAla
9057815318

मनवा कर भगति में सिर बाण तज कुब्द्ध कमावण Video

मनवा कर भगति में सिर बाण तज कुब्द्ध कमावण Video

https://www.youtube.com/watch?v=Oodss0NV5rU