मेरी आँखों में साईं का दरबार है उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है Lyrics

meri ankhon me sai ka darbar hai unki rehmat ko mera namaskar hai

मेरी आँखों में साईं का दरबार है उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है Lyrics in Hindi

मेरी आँखों में साईं का दरबार है
उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है

भेद कोई नहीं राम रेहमान में
मत करो फ़र्क इन्सान इन्सान में
सीख बाबा की ये जग पे उपकार है
उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है

जिसने जो माँगा साईं के दर से मिला
सुख जहाँ का वहाँ के सफर से मिला
यूँ नहीं शिर्डीमय सारा संसार है
उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है

साईं बाबा की जो भी शरण में गया
जिसका सिर दिल से उनके चरण में गया
हो गया समझो हरि उसका उद्धार है
उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है

लेखक:-
डा० हरि प्रकाश श्रीवास्तवफ़ैज़ाबादी


गायक:-
मोहित श्रीवास्तव मोहित साईं

Download PDF (मेरी आँखों में साईं का दरबार है उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है Bhajans Bhakti Songs)

मेरी आँखों में साईं का दरबार है उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है Bhajans Bhakti Songs

Download PDF: मेरी आँखों में साईं का दरबार है उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है Lyrics Bhajans Bhakti Songs

मेरी आँखों में साईं का दरबार है उनकी रेहमत को मेरा नमस्कार है Lyrics Transliteration (English)

meree aankhon mein saeen ka darabaar hai
unakee rehamat ko mera namaskaar hai

bhed koee nahin raam rehamaan mein
mat karo fark insaan insaan mein
seekh baaba kee ye jag pe upakaar hai
unakee rehamat ko mera namaskaar hai

jisane jo maanga saeen ke dar se mila
sukh jahaan ka vahaan ke saphar se mila
yoon nahin shirdeemay saara sansaar hai
unakee rehamat ko mera namaskaar hai

saeen baaba kee jo bhee sharan mein gaya
jisaka sir dil se unake charan mein gaya
ho gaya samajho hari usaka uddhaar hai
unakee rehamat ko mera namaskaar hai

lekhak:-
daa0 hari prakaash shreevaastavafaizaabaadee

gaayak:-
mohit shreevaastav mohit saeen

Browse Temples in India